Home spritualismओशो- कृष्ण अर्जुन और प्रश्नोत्तर ।। ओशो अर्जुन के मन पर
ओशो- कृष्ण अर्जुन और प्रश्नोत्तर ।। ओशो अर्जुन के मन पर

ओशो- कृष्ण अर्जुन और प्रश्नोत्तर ।। ओशो अर्जुन के मन पर

ओशो- कृष्ण अर्जुन और प्रश्नोत्तर ।। ओशो अर्जुन के मन पर

अर्जुन के प्रश्नों का कोई अंत नहीं है। किसी के भी प्रश्नों का कोई अंत नहीं है। जैसे वृक्षों में पत्ते लगते हैं, ऐसे मनुष्य के मन में प्रश्न लगते हैं। और जैसे

झरने नीचे की तरफ बहते हैं, ऐसा मनुष्य का मन प्रश्नों के गङ्ढों को खोजता है।

कृष्ण जैसा व्यक्ति भी मौजूद हो, तो भी प्रश्न उठते ही चले जाते हैं। और शायद उन्हीं प्रश्नों के कारण अर्जुन कृष्ण को भी देख पाने में समर्थ नहीं है। और शायद उन्हीं प्रश्नों के कारण अर्जुन कृष्ण के उत्तर को भी नहीं सुन पाता है।

जिस मन में बहुत प्रश्न भरे हों, वह उत्तर को नहीं समझ पाता है। क्योंकि वस्तुतः जब उत्तर दिए जाते हैं, तब वह उत्तर को नहीं सुनता; अपने प्रश्नों को ही, अपने प्रश्नों को ही भीतर गुंजाता चला जाता है।

कृष्ण कहते हैं जरूर; अर्जुन तक पहुंच नहीं पाता है। दुविधा है; लेकिन ऐसी ही स्थिति है। जब तक प्रश्न होते हैं मन में, तब तक उत्तर समझ में नहीं आता। और जब प्रश्न गिर जाते हैं, तो उत्तर समझ में आता है। और प्रश्न से भरा हुआ मन हो, तो कृष्ण भी सामने खड़े हों, साक्षात उत्तर ही सामने खड़ा हो, तो भी समझ के बाहर है। और मन से प्रश्न गिर जाएं, तो पत्थर भी पड़ा हो सामने, तो भी उत्तर बन जाता है।

निष्प्रश्न मन में उत्तर का आगमन होता है। प्रश्न भरे चित्त में उत्तर को आने की जगह भी नहीं होती। इतनी भीड़ होती है अपनी ही कि उत्तर के लिए प्रवेश का मार्ग भी नहीं मिलता है।

ओशो- कृष्ण अर्जुन और प्रश्नोत्तर ।। ओशो अर्जुन के मन पर

उम्मीद है कि आपको हमारे आर्टिकल पसन्द आ रहे होंगे,ये आर्टिकल आपको किस तरह कैसा लगा कमेंट बॉक्स में कमेंट करके बताये , शेयर करे  whatsapp-instagram-facebook-twitter और blog पर  और जुड़े रहे uknita.com से ।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *